+Get Now!

प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

09 August 2020

चाहता हूँ अब प्रलय आए

कुछ ऐसा हो
जो दिल दहलाए
धरती गगन समंदर
सब हिल जाए
 चाहता हूँ
अब प्रलय आए।

ठौर बदलते इस
बुरे दौर का
जलता दीपक
अब बुझ जाए
 चाहता हूँ
अब प्रलय आए।

कोई नहीं
भरोसे जैसा
धोखे का
निशाँ  मिट जाए
चाहता हूँ
अब प्रलय आए।

-यशवन्त माथुर ©