प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

वेब सर्च (Enter your keywords to search on web)

08 December 2010

फिर न वापस आऊंगा.

जी लेने दो
दो पल सुकून के
फिर मैं चला जाऊँगा
तुम ताकोगे राह मेरी
फिर न वापिस आऊंगा

मैं भटकुंगा
तंग गलियों में
दुनिया के शोर शराबे में
मैं चीखूंगा
चिल्लाऊंगा
पर कहीं नज़र न आऊंगा

इस कोलाहल से
गुज़र  कर
पूर्व सुनिश्चित सा
ठिठक कर
थाम लूँगा तन्हाई का हाथ
फिर आगे बढ़ता जाऊँगा

बस कुछ ही क्षण
मैं पास  तुम्हारे
दो पल का सुख लेने दो
अंतहीन सफ़र की है शुरुआत
हाथ थाम
मुझे चूम लेने  दो

ताजी हवा के
इस झोंके में
देखो अब मिल जाऊँगा
तुम ताकोगे राह मेरी
फिर न वापस  आऊंगा.

21 comments:

  1. गुजरा हुआ ज़माना आता नही दोबारा…………बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  2. सच कभी नहीं लौटता बीता वक्त.... बेहतरीन प्रस्तुति....

    ReplyDelete
  3. Aur fir ban kar k ek yaad har lamha tumhara tumse churaayunga...

    Aaj mujhse nazar fer rahe ho tum,kal ro doge jab lakh koshish pe bhi nahi mil payunga...

    I simply loved dis poem of urs :)

    ReplyDelete
  4. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (9/12/2010) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा।
    http://charchamanch.blogspot.com

    ReplyDelete
  5. जल्दी मे इतना ही कहूँगी कि बेहतरीन रचना । शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  6. बीता वक्त फिर नहीं आता ..और हम भी वक्त के साथ बीतते जाते हैं ..

    ReplyDelete
  7. बेहतरीन रचना, शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  8. यशवंत जी
    दो पल सुकून के
    फिर मैं चला जाऊँगा
    तुम ताकोगे राह मेरी
    फिर न वापिस आऊंगा
    जिन्दगी की वास्तविकता को समझाने का प्रयास आपने बखूबी किया है ..हर पंक्ति गहरे अर्थ पेश करती है ...शुक्रिया
    xxxxxxxxxxxxxxxxxxx
    कुछ ऐसे ही भावों से सजी ग़ज़ल मैंने चलते -चलते पर प्रस्तुत की है ...आशा है अआप्को पसंद आएगी
    http://mohallachalte-chalte.blogspot.com/

    ReplyDelete
  9. बहुत बेहतरीन अभिव्यक्ति ... गहरे भाव ...

    ReplyDelete
  10. कित्ती प्यारी रचना है...बधाई.
    ______________
    'पाखी की दुनिया' में छोटी बहना के साथ मस्ती और मेरी नई ड्रेस

    ReplyDelete
  11. सुन्दर मनुहारी रचना

    ReplyDelete
  12. जीने लेने दो
    दो पल सुकून के
    फिर मैं चला जाऊँगा
    तुम ताकोगे राह मेरी
    फिर न वापिस आऊंगा

    गया समय फिर नहीं आता..बहुत सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  13. यशवंत भाई, आपकी बातें मन के तारों को झंकृत कर गयीं, बधाई।

    ---------
    त्रिया चरित्र : मीनू खरे
    संगीत ने तोड़ दी भाषा की ज़ंजीरें।

    ReplyDelete
  14. आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद!

    ReplyDelete
  15. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 05-04-2012 को यहाँ भी है

    .... आज की नयी पुरानी हलचल में ......सुनो मत छेड़ो सुख तान .

    ReplyDelete
  16. देखो अब मिल जाऊँगा
    तुम ताकोगे राह मेरी
    फिर न वापस आऊंगा.itni badi priksha ??????/ bahut acchi abhiwyakti.

    ReplyDelete
  17. सच ही तो है ...लोग चले जाते हैं ...केवल यादें कचोटती हैं .....और कुछ न कर पाने , कुछ न कह पाने की पीड़ा रह जाती है ......समय से यह एहसास दिलाती , भावपूर्ण रचना !

    ReplyDelete
  18. बहुत खुबसूरत रचना अभिवयक्ति.........

    ReplyDelete

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन कमेन्ट मे न दें।
कमेन्ट मोडरेशन सक्षम है। अतः आपकी टिप्पणी यहाँ दिखने मे थोड़ा समय लग सकता है।

Please do not advertise in comment box.
Comment Moderation is active.so it may take some time in appearing your comment here.