प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

वेब सर्च (Enter your keywords to search on web)

25 December 2010

सेंटा क्लॉज़!

सेंटा क्लॉज़!
मुझे यकीन है
तुम आओगे
खुशियों से भरी
अपनी झोली ले कर

मैं जानता हूँ
तुम मेरे पास भी आओगे
हाथ मिलाओगे
मुस्कुराओगे
अपनी बर्फ सी  सफ़ेद दाढी पर
हाथ फिराकर
मुझे भी पकड़ा दोगे
थोड़ी सी खुशियाँ
मगर आज मैं तुम से कहना चाहता हूँ
कुछ
जो सोच कर रखा है मन में
बस इसे प्रार्थना कहो या जो कहो
पर अलविदा कहने से पहले
एक नज़र डाल लेना
तुम्हारी राह में पड़ने वाले
अनगिनत चौराहों पर
जिनके किनारे
रहते हैं वो नन्हे से नंगे मासूम
जो ठिठुर रहे हैं
माँ के आँचल में छुप कर
जाते जाते
एक मुस्कराहट उन्हें दे जाना
दे देना वो ख़ुशी वो हँसी
वो जिसके हकदार हैं
मुझे कर्ज़दार समझ लेना अपना
अगर एक काम और करो तो
पेट में मार दी जाने वाली
सब नारियों को अगर जिला सको तो

सेंटा क्लोज़ !
तुम अगर ये कर सके तो
यही ख़ुशी होगी मेरी
मैं तुम्हारी झोली में बार बार  झाँक रहा हूँ
आज बस यही उपहार मांग रहा हूँ.


 (सभी पाठकों और शुभचिंतकों को क्रिसमस की शुभ कामनाएं.) 

23 comments:

  1. गज़ब का उपहार माँगा है…………सुन्दर अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  2. बहुत संवेदनशील और सुन्दर अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  3. एक मुस्कराहट उन्हें दे जाना
    दे देना वो ख़ुशी वो हँसी
    वो जिसके हकदार हैं//
    बहुत सुंदर ...
    सार्थक कविता शायद ऐसी ही होती है ///

    ReplyDelete
  4. khat khat ... bahar santa khade hain , nikaliye unke saath aur apni khwaahish poori kijiye

    ReplyDelete
  5. आपको क्रिसमस की अगणित शुभकामनाये. कन्या भ्रूण हत्या एक सामाजिक अभिशाप है

    ReplyDelete
  6. sunadr... uttam kriti punah sir aapki busy hour ke karan regular nahi aa pata lekin jab aata man anandit ho jata... christmas ki badhai apko bhi...

    ReplyDelete
  7. क्रिसमस की शांति उल्लास और मेलप्रेम के
    आशीषमय उजास से
    आलोकित हो जीवन की हर दिशा
    क्रिसमस के आनंद से सुवासित हो
    जीवन का हर पथ.

    आपको सपरिवार क्रिसमस की ढेरों शुभ कामनाएं

    सादर
    डोरोथी

    ReplyDelete
  8. इससे प्यारा कोई उपहार हो ही नही सकता

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर रचना, क्रिसमस की ढेर सारी शुभकामनाएं...आपकी हर मनोकामना पूरी हो

    ReplyDelete
  10. बहुत अच्छी प्रस्तुति। हार्दिक शुभकामनाएं!
    एक आत्‍मचेतना कलाकार

    ReplyDelete
  11. ईश्वर आपकी मुराद पूरी करें । शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  12. यशवंत जी
    आपकी रचना ...................और आपकी मांग का जबाब नहीं ...शुक्रिया

    ReplyDelete
  13. जब भी सेंटा आए तो मुझे भी बुला लेना... plz...
    poem... wow... too good...

    ReplyDelete
  14. यह सेंटा क्लाज तो बहुत प्यारा है.
    मैंने भी तो स्कूल में क्रिसमस मनाया..बड़ा मजा आया.
    सभी लोगों को क्रिसमस की ढेर सारी बधाई.

    ReplyDelete
  15. इस कविता को पसंद करने के लिए आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद!

    ReplyDelete
  16. यशवंत भाई, आपके निश्‍छल मन की भांति ही दिल को छू जाने वाली है यह कविता। हार्दिक शुभकामनाऍं।

    ---------
    अंधविश्‍वासी तथा मूर्ख में फर्क।
    मासिक धर्म : एक कुदरती प्रक्रिया।

    ReplyDelete
  17. यशवंत भाई
    बहुत अच्छी प्रस्तुति। हार्दिक शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  18. यह अच्छा लगा भाई ...शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  19. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल आज 04 -12 - 2011 को यहाँ भी है

    ...नयी पुरानी हलचल में आज .जोर का झटका धीरे से लगा

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर उपहार माँगा है ... संवेदनशील रचना

    ReplyDelete
  21. बहुत सुन्दर रचना
    शुभकामनायें...

    ReplyDelete

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन कमेन्ट मे न दें।
कमेन्ट मोडरेशन सक्षम है। अतः आपकी टिप्पणी यहाँ दिखने मे थोड़ा समय लग सकता है।

Please do not advertise in comment box.
Comment Moderation is active.so it may take some time in appearing your comment here.