प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

वेब सर्च (Enter your keywords to search on web)

28 May 2011

वाई.नेट कम्प्यूटर्स का एक वर्ष


---विजय  माथुर 

 आज 'वाई. नेट कम्प्यूटर्स ' ने दुसरे वर्ष में प्रवेश कर लिया है.यशवन्त ने गत वर्ष आज ही के दिन अपने व्यवसाय का शुभारम्भ  किया था.वह जब छोटा था अक्सर मेरे साथ बाजार वगैरह चला जाता था.एक बार होम्योपैथिक चिकित्सक डा.खेम चन्द्र खत्री ने उसे देख कर कहा था कि यह बच्चा आपकी तरह नौकरी नहीं करेगा यह अपना बिजनेस करेगा.मैं डा.साहब की दूकान से ही होम्योपैथी दवाएं खरीदता था.वह मुझे अच्छे तरीके से जानते थे. फिर भी कहा कि यह बिजनेस करेगा तो मैं समझा शायद डा. साहब ने व्यंग्य किया होगा.परन्तु उन्होंने कहा कि वह इन्ट्यूशन के आधार पर कह रहे हैं और उनके इन्ट्यूशन कभी गलत नहीं होते हैं.हालांकि उसकी जन्म-कुंडली के हिसाब से भी उसके लिए व्यवसाय ही बनता था परन्तु व्यवहारिक परिस्थितियें विपरीत थीं.

सन२००५ ई. में यशवन्त ने बी.काम.कर लिया परन्तु आर्थिक कारणों से उसे एम्.काम. या दूसरी कोई शिक्षा नहीं दिला सके.सन २००६ ई. में आगरा में पेंटालून का बिग बाजार खुल रहा था उसका विज्ञापन देख कर उसने अपने एक परिचित के कहने पर एप्लाई कर दिया. मैं सेल्स में नहीं भेजना चाहता था उसी लड़के ने मुझ से कहा अंकल यह घूमने  का जाब नहीं है,करने दें.इत्तिफाक से बगैर किसी सिफारिश के उसका सिलेक्शन भी हो गया अतः ज्वाइन न करने देने का कोई मतलब नहीं था.०१ .०६ २००६ से ज्वाइन करने के बाद १२ तक आगरा में ट्रेनिंग चली और १३ ता. को लखनऊ के लिए बस से स्टाफ को भेजा जहाँ १४ ता. से १५ दिन की ट्रेनिंग होनी थी.परन्तु किन्हीं कारणों से यह ट्रेनिंग सितम्बर के पहले हफ्ते तक लखनऊ में चली.

ढाई माह लखनऊ रहने पर यशवन्त को वह इतना भा गया कि मुझ से कहा आगरा का मकान बेच कर लखनऊ चलिए जो आपका अपना जन्म-स्थान भी है.मैंने उसकी बात को ज्यादा गंभीरता से नहीं लिया जबकि लखनऊ का आकर्षण भी था.जब जूलाई २००७ में  मेरठ में बिग बाजार की ब्रांच  खुली तो उसने वहां अपना ट्रांसफर करा लिया.वह मुझ से लगातार लखनऊ शिफ्ट करने को कहता रहा.मई २००९ में कानपुर में बिग बाजार की दूसरी ब्रांच खुलने पर वह ट्रांसफर लेकर ०४ जून २००९ को   वहां आ गया और कहा अब लखनऊ के नजदीक आ गए हैं अब तो आप लखनऊ आ जाएँ.

३१ जूलाई से आगरा का मकान बेचने की प्रक्रिया प्रारंभ करके सितम्बर में उसकी रजिस्टरी कर दी और ०९ अक्टूबर को लखनऊ आ गए और नवम्बर में अपना मकान लेकर उसमें शिफ्ट हो गए.लखनऊ में बिग बाजार की तीसरी ब्रांच खुलने पर उसने फिर ट्रांसफर माँगा जहाँ कानपूर और इलाहाबाद के लोगों तक को भेज दिया गया परन्तु उसकी जरूरत कानपूर में है कह कर रोक लिया गया जिसके जवाब में मैंने उससे वहां से रेजिग्नेशन दिलवा दिया.

२८ मई २०१० को यशवन्त की अपनी कुछ बचत और कुछ अपने पास से मदद करके उसके लिए 'वाई.नेट कम्प्यूटर्स' खुलवा दिया. इस एक वर्ष में ज्वलनशील लोगों,रिश्तेदारों के प्रकोप के कारण यद्यपि आर्थिक रूप से इस संस्थान से लाभ नहीं हुआ.परन्तु यशवन्त के सभी ब्लाग्स के अलावा मेरे भी सभी ब्लाग्स इसी संस्थान के माध्यम से चल रहे हैं. हम लोगों को जो सम्मान और प्रशंसा ब्लॉग जगत में मिली है उसका पूरा श्रेय यशवन्त के 'वाई .नेट कम्प्यूटर्स' को जाता है.पूनम और  मैं यशवन्त और उसके संस्थान के उज्जवल भविष्य की कामना करते हैं.

[यह आलेख  क्रान्तिस्वर पर भी उपलब्ध है]

24 comments:

Jyoti Mishra said...

congratulations !!

Dr. Zakir Ali Rajnish said...

वाई.नेट की सालगिरह मुबारक हो। मेरी ओर से भी हार्दिक शुभकामनाएं।

---------
हंसते रहो भाई, हंसाने वाला आ गया।
अब क्‍या दोगे प्‍यार की परिभाषा?

Shalini kaushik said...

विजय जी सदर प्रणाम,
आपके पुत्र यशवंत जी हमारे ब्लॉग जगत के उज्ज्वल सितारे हैं और हम सभी के बहुत अच्छे सहयोगी भी.इनका भविष्य उज्ज्वल है .आपकी इस पोस्ट से आप लोगो को और करीब से जानने का अवसर मिला और ये हमें बहुत अच्छा लगा.यशवंत जी अपने जीवन में दिन दूनी रत चौगनी तरक्की करें यही शुभकामना है.बधाई.

Kailash Sharma said...

बहुत बहुत शुभकामनायें !

निवेदिता श्रीवास्तव said...

आपको भी बधाइयाँ .....माता-पिता का स्नेह मिलता रहे और सफ़लता यशवन्त की चिर संगिनी बने .....

Anita said...

"वाई नेट कंप्यूटर्स" के एक वर्ष पूरा होने पर आप सभी को बहुत-बहुत बधाई और ढेरों शुभकामनायें !

Anonymous said...

बहुत बहुत बधाई और शुभकामना !

Unknown said...

बहुत बहुत बधाई और शुभकामना

डॉ. मोनिका शर्मा said...

बधाई और हार्दिक शुभकामनायें

समयचक्र said...

द्वितीय वर्ष में प्रवेश करने पर बधाई ....

Sunil Kumar said...

वाई.नेट की सालगिरह मुबारक हो!....

संजय भास्‍कर said...

बहुत बहुत शुभकामनायें !

संजय भास्‍कर said...

बधाइयाँ ..बधाइयाँ ..बधाइयाँ ..बधाइयाँ ..बधाइयाँ ..बधाइयाँ ..बधाइयाँ ..बधाइयाँ ..बधाइयाँ ..बधाइयाँ ..बधाइयाँ ...
*********************************************

संजय भास्‍कर said...

यशवंत जी हमारे ब्लॉग जगत के उज्ज्वल सितारे हैं
इसमें कोई शक नहीं
*********************
सालगिरह मुबारक हो यशवंत भाई

G.N.SHAW said...

गुरूजी प्रणाम...आप सदैव कर्मठ रहे है, बच्चे भी होंगे ही ! संस्कार इसी को ही कहते है ! वार्षिक उपलब्धियों पर बहुत - बहुत बधाई और आशा है आप लोगो का पारिवारिक नेट भविष्य में और फले - फुले ! यशवंत को भी मेरी शुभेक्षा !

Shikha Kaushik said...

यशवंत जी आप बहुत भाग्यशाली हैं जो आपको इतना sneh karne vale mata -pita mile hain .आपको ''वाई .नेट ....''के दो वर्ष पूरा होने पर hardik शुभकामनायें .आप प्रगति पथ पर aise hi aage बढ़ते रहे यही प्रभु से कामना है .

Maheshwari Kaneri said...

वाई.नेट की सालगिरह मुबारक हो।यशवंत जी अपने जीवन में दिन दूनी रातचौगनी तरक्की करें यही शुभकामना है.बहुत बहुत बधाई.

वीना श्रीवास्तव said...

'वाई. नेट कम्प्यूटर्स 'की वर्षगांठ बहुत-बहुत मुबारक...मेरी ओर से यशवंत जी के लिए ठेर सारी शुभकामनाएं...
ईश्वर करे वह दिन दूनी-रात चौगुनी तरक्की करें...

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' said...

बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

Chaitanyaa Sharma said...

बेस्ट विशेस ..यशवंत भैया

रजनीश तिवारी said...

बहुत बहुत शुभकामनाएँ !

SANDEEP PANWAR said...

हमारी भी दुआएँ

Indranil Bhattacharjee ........."सैल" said...

आपके व्यवसाय की सालगिरह पर आपको और आपके परिवार को हार्दिक शुभकामनायें ! आप मेहनत से काम करें और खूब उन्नति करें ... अपनी किस्मत अपने हाथ में होती है ...

यशवन्त माथुर (Yashwant R.B. Mathur) said...

आप सभी के अपनत्वपूर्ण स्नेह और आशीर्वाद के लिए ह्रदय से आभारी हूँ.