प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

वेब सर्च (Enter your keywords to search on web)

07 August 2011

कहीं न कहीं सच मे .........

अभी 2 दिन पहले सुषमा जी ने एक फोटो अपनी फेसबुक वॉल पर शेयर किया था जिसे देख कर मेरे मन मे उसी क्षण जो आया वह मैंने वहाँ कमेन्ट मे लिख दिया था। सुषमा जी की अनुमति से उनकी वॉल से उनको धन्यवाद सहित वह चित्र यहाँ प्रस्तुत है और साथ मे अपने पाठकों के लिए कमेन्ट मे लिखी वह पंक्तियाँ  यहाँ भी प्रस्तुत  कर रहा हूँ  -



कहीं न कहीं सच मे ऐसा होता होगा, 
हमकदम बन कर कोई साथ चलता होगा।
किसी के आंसुओं मे कोई दर्द अपना देख कर, 
हाथ थाम यूं गले लगा लेता होगा।।

ये जिंदगी है समुंदर की लहरों जैसी, 
कोई पत्थर भी राह बनाना सीख लेता  होगा।
  कहीं न कहीं सच मे ऐसा होता होगा,
 कांटे बिछा कर ज़माना भी रो देता होगा।। 



(आप सभी को मित्रता दिवस की शुभकामनाएँ!)

28 comments:

रश्मि प्रभा... said...

जितनी आत्मीयता तस्वीर में है, उतनी ही शब्दों में है ...

vandan gupta said...

आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
अवगत कराइयेगा ।

http://tetalaa.blogspot.com/

shalini kaushik said...

ये जिंदगी है समुंदर की लहरों जैसी,
कोई पत्थर भी राह बनाना सीख लेता होगा।
कहीं न कहीं सच मे ऐसा होता होगा,
कांटे बिछा कर ज़माना भी रो देता होगा।।
yashvant जी बहुत sunndar shabdon में आपने abhivyakt kiya है man की भावनाओं को,
एक बात aur आज आपके ब्लॉग पर टिपण्णी में mane-url मिला है इसलिए टिपण्णी कर प् रहे हैं .pichhli kai post aapki हमने padhi पर ham yahan apne विचार उनपर प्रस्तुत नहीं कर पाए इसके लिए hame बहुत खेद है आशा है कि आप hamare is kathan को anyatha नहीं lenge aur hame हमारी अनुपस्थिति के लिए क्षमा भी कर देंगे.

संध्या शर्मा said...

किसी के आंसुओं मे कोई दर्द अपना देख कर,
हाथ थाम यूं गले लगा लेता होगा।।
यशवंतजी बड़े अपनेपन से लिखी हैं ये पंक्तियाँ ... बहुत सुन्दरता है इन शब्दों में ... मित्रता दिवस की शुभकामनाएँ

रेखा said...

आपको भी मित्रता दिवस की शुभकामनाये.

Unknown said...

Vibhor kar diya . mitrata kaayam rahe . shubhkamna

S.N SHUKLA said...

मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं,आपकी कलम निरंतर सार्थक सृजन में लगी रहे .
एस .एन. शुक्ल

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बहुत खूबसूरत पंक्तियाँ ..

S.N SHUKLA said...

मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं,आपकी कलम निरंतर सार्थक सृजन में लगी रहे .
एस .एन. शुक्ल

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' said...

अच्छी रचना है!
--
मित्रता दिवस पर बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

Maheshwari kaneri said...

बहुत सुन्दर रचना..मित्रता दिवस पर बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

sushma verma said...

चित्र को देख कर कविता लिखी हो या कविता को देख कर चित्र हो... दोनों ही एक दुसरे के पूरक है.... बहुत खुबसूरत लिखा है आपने....

prajna... said...

बहुत बढ़िया यशवंत जी !

Jyoti Mishra said...

happy friendship day to u too :)

निवेदिता श्रीवास्तव said...

दोनो ही एक दूसरे की पूरक हो रही हैं ...... शुभकामनायें !

Amit Chandra said...

शानदार। साथ में चित्र भी खुबसुरत।

डॉ. मोनिका शर्मा said...

शब्द और चित्र दोनों मन में उतर गए.....

रजनीश तिवारी said...

bahut achchhi panktiyaan ! shubhkamnayen..

सागर said...

bhaut acchi rachna aur chitr....

Anita said...

चित्र व पंक्तियाँ दोनों ही दिल को छू जाती हैं... आभार!

vidhya said...

बहुत सुन्दर रचना

Dr (Miss) Sharad Singh said...

अत्यंत हृदयस्पर्शी...

सदा said...

बहुत ही सुन्‍दर भावमय करते शब्‍द ।

संजय भास्‍कर said...

खूबसूरत पंक्तियाँ ..
फ्रेंडशिप डे ' की आपको ढेर सारी शुभकामनाएँ ..... |

Dr Varsha Singh said...

मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाये .

लाल और बवाल (जुगलबन्दी) said...

यौमे-अहबाब पर ये सुन्दर प्रस्तुति कितना सुखद अहसास दे गई। वाह वाह!

यशवन्त माथुर (Yashwant R.B. Mathur) said...

आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद!

दिगम्बर नासवा said...

जितना खूबसूरत चित्र उतनी ही लाजवाब पंक्तियाँ ... मज़ा आ गया ... शब्द चित्र का ...