प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

वेब सर्च (Enter your keywords to search on web)

06 October 2011

विजय दशमी है आज !

विजय दशमी है आज !
मैं देख रहा हूँ
सामने के पार्क मे खड़े
राक्षसी चेहरा सा लिए हुए पुतले को
बांस और सूखी लकड़ियों के कंकाल
घास-फूस की मांस पेशियों
भीतर के जोड़ों और जगह जगह
बम -पटाखों को खुद मे समाए
रद्दी रंगीन कागज़ की खाल ओढ़े
ये रावण का पुतला
शाम को
जल कर खाक हो जाएगा
शुभ मुहूर्त मे।

पुतला तो जल जाएगा
अपने अवशेष भी छोड़ जाएगा
हो जाएगा 
प्रतीकात्मक दैहिक अंत बुराई का 
किन्तु क्या होगा
उस वासना का
सजीव इंसानी पुतलों के भीतर
जो गहरे तक रची बसी है
क्या होगा  उस आचरण का
जो वचन मे कुछ
कर्म मे कुछ और होता है
क्या होगा उस संतोष का
असंतुष्टि के जाल मे
जो अब तक उलझा हुआ है?

बस ये कुछ
और बहुत से सवाल
बिखरे बिखरे से हैं जिनके जवाब
एक अजीब सी कशमकश
क्या सही है
क्या गलत है

फिर भी
एक रस्म को निभाना ही है
रावण को जलाना ही है
क्योंकि
विजय दशमी है आज !

आप सभी को विजय दशमी की हार्दिक शुभकामनाएँ!

17 comments:

Amrita Tanmay said...

अजीब सी कशमकश की सुन्दर रचना.विजयादशमी पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' said...

Happy Dushara.
VIJAYA-DASHMI KEE SHUBHKAMNAYEN.
--
MOBILE SE TIPPANI DE RAHA HU.
Net nahi chal raha hai.

वाणी गीत said...

वाकई रावण दहन आजकल सिर्फ प्रतीकात्मक रह गया है !
विचारणीय!

रश्मि प्रभा... said...

कुछ तो परिवर्तन लाओ युवा क़दमों - रावण क्या सच में बुराई का प्रतीक है? यदि यह सत्य होता तो खुद के नाश यज्ञ की पूजा वह खुद नहीं संपन्न करवाता !

Deepak Saini said...

शसक्त रचना
विजय दशमी की हार्दिक बधाई

sushila said...

इस रचना में समाहित संदेश बहुत सुंदर लगा ! एक बेहतर रचना ।

विजय दशमी पर शुभकामनाएँ ।

www.navincchaturvedi.blogspot.com said...

विजया दशमी की हार्दिक शुभकामनाएं। बुराई पर अच्छाई की विजय का प्रतीक यह पर्व, सभी के जीवन में संपूर्णता लाये, यही प्रार्थना है परमपिता परमेश्वर से।
नवीन सी. चतुर्वेदी

Kajal Kumar's Cartoons काजल कुमार के कार्टून said...

सही में, इस रावण को जलाना ही होगा

Dr Varsha Singh said...

विजयादशमी पर आपको सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएं।

संध्या शर्मा said...

सुन्दर रचना...विजयादशमी पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं...

Kailash Sharma said...

बहुत सुन्दर..विजयादशमी की हार्दिक शुभकामनाएं !

Patali-The-Village said...

सुन्दर रचना|
दशहरा पर्व की सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएँ|

Jyoti Mishra said...

a thouhgt provoking post !!
a fantastic read :)

happy dussehra to u n ur family !!

डॉ. मोनिका शर्मा said...

फिर भी
एक रस्म को निभाना ही है
रावण को जलाना ही है
क्योंकि
विजय दशमी है आज !

बहुत ही सुन्दर.... हार्दिक शुभकामनाएं

Dr.NISHA MAHARANA said...

stik n sarthak rcna.happy dushahra.

यशवन्त माथुर (Yashwant R.B. Mathur) said...

आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद!

Anonymous said...

nice post....same to you.