प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

वेब सर्च (Enter your keywords to search on web)

08 November 2011

सुपर स्टार

सड़क से गुजरते हुए
किनारे बसी
मजदूरों की झोपड़ियों के बाहर
मैंने देखा उसे
बड़े ही ध्यान से
वो तल्लीन था
उस किताब मे
और दोहराता जा रहा था
एक कविता -
'ट्विंकल ट्विंकल लिटिल स्टार'
शायद
उस गुदड़ी के लाल को
एहसास नहीं था
खुद के सुपर स्टार होने का।

20 comments:

महेन्द्र श्रीवास्तव said...

क्या बात है, बहुत सुंदर

Pallavi saxena said...

कौन था वो महानायक :)

संजय भास्‍कर said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति!

Kalpana said...

बहुत खूब!!!

Unknown said...

सुन्दर है आपकी कविता और सोच, बधाई

मेरा मन पंछी सा said...

बहुत ही अच्छी भावनिक रचना

POOJA... said...

ye poem to mai bhi padhti thi,
kal hi apni pyaari si bhanji ko sikha rahi thi
matla, ek super-star mai bhi bana rahi thi...
:)
{socha,koi tareef na kare to khud hi kar leti hu}
bahut badhiya rachna...

Maheshwari kaneri said...

बेहद सुन्दर भाव से सजी, बहुत सुन्दर प्रस्तुति!

डॉ. मोनिका शर्मा said...

अभावों से ही जन्मते हैं बहुत आगे जाने के भाव..... बहुत सुंदर रचना

सदा said...

वाह ...भावमय करते शब्‍दों का संगम .।

Pratik Maheshwari said...

अब सोने को कौन सा पता होता है सोना होने का?
जौहरी ही पहचानता है :)

अनुपमा पाठक said...

कविता में 'उसके' द्वारा दुहरायी जा रही कविता से सब का स्नेहिल नाता है!

Kavita Rawat said...

बहुत सुन्दर सार्थक सकारात्मक प्रस्तुति

Rajesh Kumari said...

कुछ नहीं पता कौन गुदड़ी का लाल कल का सुपर स्टार बन जाए ...बहुत अच्छी अभिव्यक्ति

प्रेम सरोवर said...

आपका पोस्ट अच्छा लगा । मेरे नए पोस्ट पर आपका आमंत्रण है । ।धन्यवाद ।

Anita said...

बहुत सुंदर भावपूर्ण कविता...गागर में सागर!

डॉ.भूपेन्द्र कुमार सिंह said...

वह ,क्या बात है ,अच्छा लिखते हो आप.हिम्मत मत चोदिये ,सफ़लता का कोई समय नहीं होता ,देर हो सकती है अंधेर नहीं होता /सस्नेह,
डॉ.भूपेन्द्र
रीवा एम् पी

यशवन्त माथुर (Yashwant R.B. Mathur) said...

आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद!

Amrita Tanmay said...

बहुत सुन्दर

Anonymous said...

कुछ अलग कुछ नया सा.........शुभकामनायें|