+Get Now!

प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

27 January 2012

इस बसंत के मौसम में क्यों ...

यह कविता 13 दिसंबर 2006 को आगरा के सर्द मौसम मे धूप का आनंद लेते हुए अपनी डायरी में लिखी थी । एक बार पहले भी  इसी ब्लॉग पर प्रस्तुत कर चुका हूँ आज पुनः प्रस्तुत है--












इस बसंत के मौसम में क्यों 
पतझड़ जैसा लगता है,
और मिलन की ख़ुशी मनाते,
हम को विरहा सा लगता है 

इस बसंत के मौसम में क्यों 
पतझड़ जैसा लगता है

किसी डाल पर कोयल गाती,
स्वप्नों के रंगीले गीत,
हम को भी सुन सुन कुछ होता,
पर कपोत न दीखता है 

इस बसंत के मौसम में क्यों 
पतझड़ जैसा लगता है

दूर हुआ मनमीत मगर,
क्यूँ न यादों से हटता है,
आँखों से झर झर झर आंसू,
सागर सूखा सा लगता है

इस बसंत के मौसम में क्यों 
पतझड़ जैसा लगता है.

 
आप सभी को बसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाएँ!

34 comments:

babanpandey said...

sunder rachna...
clearifies the real situation

prritiy----sneh said...

बहुत अच्छी रचना,
सच है जब हृदय पीड़ित हो तो बसंत भी पतझड़ ही लगता है.

शुभकामनायें

संध्या शर्मा said...

आँखों से झर झर झर आंसू,
सागर सूखा सा लगता है...
गहरे भाव... बसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाएँ...

डॉ. मोनिका शर्मा said...

जब मन उल्लासित नहीं तो कैसा बसंत ....सुंदर

vidya said...

सुन्दर विरह गीत...
आपको भी वसंत पंचमी की शुभकामनाएँ.

Anupama Tripathi said...

आपकी किसी पोस्ट की चर्चा है नयी पुरानी हलचल पर कल शनिवार 28/1/2012 को। कृपया पधारें और अपने अनमोल विचार ज़रूर दें।

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया said...

बहुत सुंदर अभिव्यक्ति, अच्छी रचना,..

NEW POST --26 जनवरी आया है....

विभा रानी श्रीवास्तव said...

इस बसंत के मौसम में क्यों ,
पतझड़ जैसा लगता है.... ?

पतझड़ के बाद बसंत आता है....:)
ये तो वही बात हो गई , सावन के अंधे को हमेशा हरा-हरा लगता है.... !

असली बात जानने का इंतज़ार रहेगा....
इस बसंत के मौसम में क्यों ,
पतझड़ जैसा लगता है.... ?

Unknown said...

बहुत सुन्दर रचना । बसंत पंचमी की शुभकामनाएँ ।

मेरी कविता

Atul Shrivastava said...

सुंदर रचना।

Aditya said...

bahut sundar bhaav sir..
bahut sundar rachna..

***Punam*** said...

bhaavpoorn.....

Madhuresh said...

बहुत प्यारी रचना है यशवंत जी! बहुत धनयवाद!

Bharat Bhushan said...

इस बसंत पर आपका मन विरह से बाहर आकर प्रसन्न है ऐसी हमारी कामना है. सुंदर रचना.

सदा said...

बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ...बसंत पंचमी की शुभकामनाएं।

induravisinghj said...

sunder Rachna,aap ko bhi basant panchami ki haardik shubhkaamnayen.

sushma verma said...

बहुत खुबसूरत रचना अभिवयक्ति.........

संजय भास्‍कर said...

बहुत ही सुन्‍दर प्रस्‍तुति ।
बसंत पंचमी की शुभकामनाएं....

Patali-The-Village said...

बहुत सुन्दर,सार्थक प्रस्तुति।

ऋतुराज वसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाएँ।

Anonymous said...

पहले तो नहीं देख पाए थे अबकी देखी सुन्दर रचना है |

sangita said...

इस बसंत के मौसम में क्यों
पतझड़ जैसा लगता है,
सुन्दर कविता है ,मेरे ब्लॉग पर आपका
स्वागत है |||||||||

अनुपमा पाठक said...

जो मनमीत हो वह यादों से कैसे विदा हो भला...
वसंत..., वसंत ले कर आये आपके जीवन में, माँ शारदे का आशीष प्राप्त हो!
अनंत शुभकामनाएं!

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

सुन्दर प्रस्तुति ...

बसंत पंचमी की शुभकामनाएँ

Kavita Rawat said...

Basant ka suawsar par sundar prastuti..

Maheshwari kaneri said...

गहरे भाव के साथ सुन्दर प्रस्तुति.. बसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाएं !

Kavita Rawat said...

sundar sarthak basanti prastuti..

Anju (Anu) Chaudhary said...

बसंत पंचमी की शुभकामनाएं

मेरा मन पंछी सा said...

जब हृदय में दर्द हो तो वसंत का मौसम भी पतझड सा लगता है ..
विरह वेदना कि सुंदर अभिव्यक्ती ...
वसंत पंचमी की हार्दिक शुभ कामनाएँ ....

Anonymous said...

nice poem
http://drivingwithpen.blogspot.com/

मेरे भाव said...

बसंत पंचमी की शुभकामनाएं

महेन्द्र श्रीवास्तव said...

बहुत सुंदर

ASHOK BIRLA said...

दूर हुआ मनमीत मगर,
क्यूँ न यादों से हटता है,
आँखों से झर झर झर आंसू,
सागर सूखा सा लगता है!

bahut hi sundar rachna par kyu sir ji ye basant patjhar sa kyu lag raha hai !!

Vandana Ramasingh said...

badhiya prastuti

रश्मि शर्मा said...

बहुत सुंदर..

Post a comment

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन कमेन्ट मे न दें।
कमेन्ट मोडरेशन सक्षम है। अतः आपकी टिप्पणी यहाँ दिखने मे थोड़ा समय लग सकता है।

Please do not advertise in comment box.
Comment Moderation is active.so it may take some time in appearing your comment here.