प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

वेब सर्च (Enter your keywords to search on web)

24 May 2012

बात बन गयी

सोचना है कुछ
कुछ लिखना है
करनी है ईमेल
और जल्दी से भेजना है
संपादक को छापने की जल्दी है
और मुझे छपने की
अपना नाम देखने की
जल्दी है ,बहुत जल्दी है
सच मे क्या करूँ
लाइनें लिखता हूँ
मिटाता हूँ
बार बार दोहराता हूँ
और डालता  हूँ
आस पास एक नज़र
कोई विषय मिल जाए
तो बात बन जाए
दोनों की 
छपने वाले की भी
छापने वाले की भी
और बनती जा रही हैं
यह पंक्तियाँ
जो आप पढ़ रहे हैं
अपना सिर पकड़ के

भौहों को तान के
झेल रहे हैं
यह हल्की फुलकी नज़्म (?)
कविता (?)
या कुछ और
जो भी हो
मेरी तो बात बन गयी
पर  आपकी ?  :)
www.nazariya.in पर पूर्व प्रकाशित

<<<<यशवन्त माथुर>>>>

19 comments:

अरुण चन्द्र रॉय said...

बात बनाती कविता... सुन्दर

Shekhar Suman said...

बहुत खूब.... आपके इस पोस्ट की चर्चा आज 24-5-2012 ब्लॉग बुलेटिन पर प्रकाशित होगी... धन्यवाद.... अपनी राय अवश्य दें...

Amrita Tanmay said...

अजी ..बात तो ऐसे ही बनती है..

ANULATA RAJ NAIR said...

हमारी भी बात बन गयी.............
:-)

सस्नेह.

Maheshwari kaneri said...

बहुत सुन्दर यशवन्त....सस्नेह..

संजय भास्‍कर said...

......क्या कहने यशवंत भाई बहुत सुंदर

Kajal Kumar's Cartoons काजल कुमार के कार्टून said...

सोचता हूं कि‍ मैं भी संपदक से बदला ले ही लूं

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बस बात बननी ही चाहिए ...

Meeta Pant said...

मुझे तो पढ़ कर मज़ा आया ... स्नेह :-)

सदा said...

वाह ...बेहतरीन

विभा रानी श्रीवास्तव said...

यह हल्की फुलकी नज़्म (?)
कविता (?)
या कुछ और
जो भी हो
मेरी तो बात बन गयी
पर आपकी ? :)
मेरी भी बनी *हलचल* के लिये .... :)

Anonymous said...

bani ya bana li gayi :-)

Saras said...

बस ऐसे ही तो बात बनती है ....हमें देखो..अभी तक मुँह में कला दबाये बैठे हैं .....

मेरा मन पंछी सा said...

बहुत ही अच्छा लिखा है आपने यशवंत जी...
सुन्दर रचना....:-)

shalini rastogi said...

यूँही बातों बातों में .... देखो फ़साना बन गया अच्छा !

Noopur said...

meri bhi baat ban gyi :)

स्वाति said...

बहुत हीं अच्छी बात बनाई है यशवंत जी...बहुत हीं सुन्दर,अपने रौ में बहती जाती रचना...

Anamikaghatak said...

क्या बात !!!!!मज़ा आ गया ....बढ़िया

Ruchi Jain said...

hehe,, so cute one,, humari bhi baat ban gayi,, nica..