प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

वेब सर्च (Enter your keywords to search on web)

06 June 2012

आम आदमी हूँ मैं

अभी 2 दिन पहले यशोदा दीदी ने फेसबुक पर एक स्टेटस दिया था। उसी स्टेटस से प्रेरित कुछ पंक्तियाँ-


न महलों मे रहता
न कारों मे चलता
न जहाजों मे उड़ कर
कहीं जाता हूँ मैं

न नेता न अभिनेता
न वादों से मुकरता
जो कहता
वो रोज़ निभाता हूँ मैं

अखबार मे रोज़ छपता
टूट टूट कर बिखरता
मुसीबतों मे जीने की
अजब कहानी हूँ मैं 

जो गर्मी मे झुलसता
शीत मे ठिठुरता
रोज़ भूख से बिलखता
आम आदमी हूँ मैं

©यशवन्त माथुर©

18 comments:

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया said...

न नेता न अभिनेता
न वादों से मुकरता
जो कहता
वो रोज़ निभाता हूँ मैं

मन मोहक सुंदर प्रस्तुति ,,,,,

MY RESENT POST,,,,,काव्यान्जलि ...: स्वागत गीत,,,,,

Maheshwari kaneri said...

टूट कर बिखरना नहीं जुड़ना.... जुड़जुड़ कर आगे बढ़ना है....एक आम आदमी की यही पहचान है.......बहुत सुन्दर भाव..सस्नेह

सदा said...

जो गर्मी मे झुलसता
शीत मे ठिठुरता
रोज़ भूख से बिलखता
आम आदमी हूँ मैं
भावमय करते शब्‍द ... बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

Anupama Tripathi said...

मुसीबतों मे जीने की
अजब कहानी हूँ मैं
gahan aur bahut sundar jazbaat ...
badi khoobsoorti se vyakt kiye ....!!

shubhkamnayen ...

Unknown said...

रोज़ भूख से बिलखता
आम आदमी हूँ मैं ....
101 टका सही ....

Pallavi saxena said...

bahut badhiya ... :)

yashoda Agrawal said...

सुन्दर भाई
सोच की एक बूंद और मिली
साधुवाद

sushma verma said...

जो गर्मी मे झुलसता
शीत मे ठिठुरता
रोज़ भूख से बिलखता
आम आदमी हूँ मैं.....bilkul sateek abhivaykti aam admi ki......
behtreen....

दिगम्बर नासवा said...

आम आदमी की मजबूती कों लिखा है यशवंत जी ... सच लिखा है ..

ANULATA RAJ NAIR said...

महल मिलें......करों में घूमो...
मुसीबतों से दूर रहो...
ना टूटो ना बिखरो...
सर्दी में रहो गर्म,....

आम से खास बन जाओ.................
:-)
सस्नेह....

मेरा मन पंछी सा said...

क्या कहने....
बहुत ही मार्मिक रचना...उत्कृष्ट

Kajal Kumar's Cartoons काजल कुमार के कार्टून said...

☺☺☺

डॉ. मोनिका शर्मा said...

मार्मिक , कटु सत्य लिए पंक्तियाँ

यशवन्त माथुर (Yashwant R.B. Mathur) said...

दीदी ! देश के हर आम आदमी को आपकी दुआ लगे !
आमीन !

सादर

डॉ. जेन्नी शबनम said...

आम आदमी का सत्य, भावपूर्ण रचना, बधाई.

विभा रानी श्रीवास्तव said...

जो कहता
वो रोज़ निभाता हूँ मैं
अखबार मे रोज़ छपता
दिन दुनी रात चौगुनी तरक्की करते रहिये .... !!

Anonymous said...

हर आम आदमी की यही कहानी है ....सुन्दर।

Suresh kumar said...

बेहतरीन प्रस्तुती ....
Aam aadmi ka dard....