प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

वेब सर्च (Enter your keywords to search on web)

12 June 2012

क्षणिका

ए वक़्त !
बस इतना सा एहसान कर दे
धूल के गुबार की तरह
मेरा ज़र्रा ज़र्रा उड़ता जाए
और कहीं खो जाए
ज़मीं पर गिरने से पहले।

©यशवन्त माथुर©

31 comments:

पंछी said...

gahan abhivyakti

रविकर said...

सुन्दर ||

दिगम्बर नासवा said...

इस दो गज जमीन से कहां छुटकारा है यशवंत जी ...
बहुत उम्दा बात कही है ...

Maheshwari kaneri said...

बहुत सुन्दर अहसास....

Kajal Kumar's Cartoons काजल कुमार के कार्टून said...

हुर्रर्रर्रर्रर्रर्र...

अरुण चन्द्र रॉय said...

waah !

अरुण चन्द्र रॉय said...

bahut sundar...

नीरज गोस्वामी said...

वाह...बेजोड़ क्षणिका...बधाई स्वीकारें

नीरज

ANULATA RAJ NAIR said...

धुल के गुबार की तरह क्यूँ ...बादलों की तरह उडो......
और जम कर बरसो.......
:-)
सस्नेह

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बहुत सुंदर

डॉ. मोनिका शर्मा said...

Bahut Sunder

रविकर said...

मित्रों चर्चा मंच के, देखो पन्ने खोल |

पैदल ही आ जाइए, महंगा है पेट्रोल ||

--

बुधवारीय चर्चा मंच

मेरा मन पंछी सा said...

गहन चिंतन...

M VERMA said...

बहुत खूब

विभा रानी श्रीवास्तव said...

*मेरा ज़र्रा ज़र्रा उड़ता जाए
और कहीं खो जाए*
नहीं - नहीं .... खोये नहीं ,हर ज़र्रा से यश फैले जिसका कभी भी अंत ना हो .... :)

Saras said...

वैसे ज़मीन से जुड़े रहने का अपना मज़ा है ...है न !

Dr (Miss) Sharad Singh said...

बहुत सुन्दर एवं मर्मस्पर्शी रचना !

Bharat Bhushan said...

आपके ऐसा बेज़ार होने को मैं तनिक हँस कर देख रहा हूँ :))

induravisinghj said...

बेहतरीन !!!!

यशवन्त माथुर (Yashwant R.B. Mathur) said...

on mail by Yashoda Agarwal Ji

ए वक़्त !
बस इतना सा एहसान कर दे..........
क्या बात है..असाधारण सोच..

Anonymous said...

khubsurat

ऋता शेखर 'मधु' said...

गहन अभिव्यक्ति !!

Kailash Sharma said...

बहुत सुन्दर रचना...

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया said...

बेहतरीन रचना,,,,,

सदा said...

गहन भाव ... बेहतरीन

मन के - मनके said...

बहुत भावमई अभिव्यक्ति

मन के - मनके said...

बहुत भावमई अभिव्यक्ति

S.M.HABIB (Sanjay Mishra 'Habib') said...

वाह...बहुत सुन्दर

Anamikaghatak said...

ati sundar

kavita verma said...

bhavpoorn kshanika..

shalini rastogi said...

छोटी परन्तु अच्छी रचना!