प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

वेब सर्च (Enter your keywords to search on web)

19 July 2012

क्षणिका ,,

बादलों के पर्दे में
लुक छिप कर
डूबता सूरज
लग रहा है
जैसे कह रहा हो
अपने मन की बात
कि अंत
सिर्फ यही नहीं है।


©यशवन्त माथुर©

25 comments:

Maheshwari kaneri said...

वो सुबह जरूर आयेगी....

ANULATA RAJ NAIR said...

हाँ एक और सवेरा है.......

बहुत सुन्दर यशवंत
सस्नेह

Anita Lalit (अनिता ललित ) said...

well said!
सूरज का डूबना...एक नयी सुबह की आस भी है... :-)

yashoda Agrawal said...

शनिवार 21/07/2012 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. आपके सुझावों का स्वागत है . धन्यवाद!

Unknown said...

गतिमान सूरज का सन्देश अच्छा लगा .

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया said...

बेहतरीन प्रस्तुति,,,,
बहुत सुंदर क्षणिका ,,,,,,


RECENT POST ...: आई देश में आंधियाँ....

Anupama Tripathi said...

अनंत ...अनवरत ...
सच कह रहा है ...!!
शुभकामनायें

Shalini kaushik said...

bilkul sahi kaha aapne.sundar prastuti.

udaya veer singh said...

डूबता सूरज एक नए प्रभात का आगाज होता है ......निरंतर चलता पथिक विश्राम की वेला को अवसान समझने की भूल करता है .....

डा. गायत्री गुप्ता 'गुंजन' said...

:)

विभा रानी श्रीवास्तव said...

हौसला बढ़ाने के लिए शुक्रिया ....

सदा said...

बहुत सही कहा ... बेहतरीन भाव

मेरा मन पंछी सा said...

डूबता सूरज एक सन्देश की तरह होता है..
जो कहता है की मै कल फिर आऊंगा
और फिर उसी तेज से चमकूँगा
बेहतरीन प्रेरनादायी रचना
:-)

डॉ. मोनिका शर्मा said...

सुंदर क्षणिका ....

Anita said...

सूरज कभी डूबता ही नहीं, दिखता भर है कि डूब रहा है..चंद शब्दों में सुंदर संदेश !

sushma verma said...

जबरदस्त अभिवयक्ति.....वाह!

RITU BANSAL said...

..बिलकुल..!!

Kailash Sharma said...

कुछ शब्दों में बहुत कुछ कह दिया..बहुत सुन्दर

Anonymous said...

बहुत खूब !

संध्या शर्मा said...

सुंदर संदेश...

Kavita Rawat said...

सच कहा अंत कोई कहाँ देख पाता है ..
बहुत सार्थक चिंतन ..

पंछी said...

short and sweet :)

Onkar said...

वाह,क्या बात है

दिगम्बर नासवा said...

सच है जिंदगी और भी है ... बहुत बड़ी जिसका पता भी नहीं है ...

prritiy----sneh said...

sach kaha kabhi kabhi jo dikhta hai vo hota nhi, jo ant lagta hai vo ek nai shuruat hoti hai. sunder goodh rachna


shubhkamnayen