प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

वेब सर्च (Enter your keywords to search on web)

13 January 2013

अगर जीवन सपना होता......

सपनों की रंगीन
चित्ताकर्षक
मनमोहक
और अपनी मनचाही
दुनिया में घूमते हुए
मैं अक्सर सोचता हूँ
यह जीवन भी
होता अगर
ऐसे ही किसी
सुखांत सपने की तरह
तब शायद
एक बार खिल उठने के बाद
कोई फूल
न कभी मुरझाता 
और न ही कर पाता
नव जीवन का एहसास !

    
©यशवन्त माथुर©

16 comments:

विभा रानी श्रीवास्तव said...

काश !ऐसा हो पाता !!
आपको लोहड़ी की हार्दिक शुभकामनाएँ .... :))

Kajal Kumar's Cartoons काजल कुमार के कार्टून said...

लेकिन सपने तो सपने ही होते हैं

दिगम्बर नासवा said...

बहुत खूब ... नवजीवन का एहसास खिलने के बाद ही होता है ... इसलिए चक्र जरूरी है ...

रविकर said...

बढ़िया प्रस्तुति |
प्रभावी कथ्य |
आभार ||

sushma verma said...

khubsurat...

vandan gupta said...

है तो स्वप्नवत ही बस आँख ही नही खुली है अभी तक

रविकर said...

आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति सोमवार के चर्चा मंच पर ।। मंगल मंगल मकरसंक्रांति ।।

Anonymous said...

bahut hi badhia likha hain bhai
check my blog
http://drivingwithpen.blogspot.in/

Unknown said...

खूबसूरत यशवंत

संध्या शर्मा said...

जीवन एक सपना ही तो है, काश सभी के लिए सुखांत होता...लोहिड़ी व मकर संक्रांति पर्व की ढेरों शुभकामनाएँ

yashoda Agrawal said...

आपकी यह बेहतरीन रचना बुधवार 16/01/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
मकर संक्रान्ति के अवसर पर
उत्तरायणी की बहुत-बहुत बधाई!

प्रतिभा सक्सेना said...

मानव-जीवन कर्म के लिये है, जिसकी देवता (जिनका जीवन केवल भोग के लिये है)भी कामना करते हैं.

Anonymous said...

सुन्दर भाव !!!

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

मेरी टिप्पणी स्पैम में देखिये ।

यशवन्त माथुर (Yashwant R.B. Mathur) said...

आंटी
आपकी टिपणी स्पैम मे भी देखि और मेल मे भी...पर मुझे इस पोस्ट पर पहले आप्क कोई टिप्पणी नहीं मिली :(