प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

वेब सर्च (Enter your keywords to search on web)

15 January 2013

सपने सिर्फ सपने ही नहीं होते

सपने
सिर्फ सपने ही नहीं होते
कभी कभी
वास्तविकता का आभास बन कर
खींच देते हैं चित्र भविष्य का।
चित्र जिसमें
अनेकों रंगों के साथ
मिलती जुलती कालिख
कराती है पूर्णता का एहसास
बनाती है खास
चित्र के चरित्र को ।
सपने सिर्फ सपने ही नहीं होते
कभी कभी
मन के कैनवास पर बिखर कर
करा देते हैं संगम
भूत,वर्तमान और भविष्य का। 

©यशवन्त माथुर©

15 comments:

Madhuresh said...

Bilkul sahi baat Yashwant bhai.. acchi abhivyakti..

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' said...

सुन्दर रचना!

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया said...

बहुत सुंदर उम्दा अभिव्यक्ति ,,,

recent post: मातृभूमि,

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

सपने होते हैं तभी उनको पूरा करने कि चाहत भी होती है ..... बहुत सुंदर ।

मेरा मन पंछी सा said...

एकदम सही कहा आपने यशवंत जी...
बहुत सुन्दर रचना...
:-)

vandan gupta said...

सपने सिर्फ सपने ही नहीं होते
कभी कभी
मन के कैनवास पर बिखर कर
करा देते हैं संगम
भूत,वर्तमान और भविष्य का।

वाह बहुत खूबसूरत ख्याल

Maheshwari kaneri said...

बहुत बढ़िया..यशवंत..

Unknown said...

बहुत खूबसूरत रचना यशवंत

Shalini kaushik said...

सुन्दर प्रयास सार्थक भावनात्मक अभिव्यक्ति ”ऐसी पढ़ी लिखी से तो लड़कियां अनपढ़ ही अच्छी .”
आप भी जाने @ट्वीटर कमाल खान :अफज़ल गुरु के अपराध का दंड जानें .

विभा रानी श्रीवास्तव said...

चित्र जिसमें
अनेकों रंगों के साथ
मिलती जुलती कालिख
कराती है पूर्णता का एहसास
बनाती है खास
सार्थक रचना !!

डॉ. मोनिका शर्मा said...

Bahut Hi Umda.....

Unknown said...

sundar Abhivyakti.....Badhai

यशवन्त माथुर (Yashwant R.B. Mathur) said...

ई मेल पर प्राप्त-
indira mukhopadhyay



बिलकुल सही कहा यशवंतजी, बहुत खूब।

yashoda Agrawal said...

आपकी यह बेहतरीन रचना शनिवार 19/01/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

Gyanesh kumar varshney said...


गजब कविता मजा आ गया अभिव्यक्ति इतनी मधुर कि मजा आ जाए वाह भई हम भी आपकी इस कविता का लिंक अपने समाचार साइट ओजस्वी वाणी पर लगा रहैं हैं आपको हमारे पाठक भी जाने बहुत अच्छा माथुर जी कृपया हमारी साइटों पर आना न भूलें ओर वहाँ अपनी उपस्थिति दर्ज करावें हम आपका इन्तजार करेगें वैसे आप हमारे आयुर्वेदिक ब्लाग आयुर्वेद एन एन्सियेन्ट मेडिकल साइन्स पर आये हमें बहुत खुशी हुयी और आपने हमारा लिंक अपनी सामूहिक साइट पर लगाने का विचार रखा हमें अच्छा लगा आपका धन्यबाद वैसे हमारे और भी कई ब्लाग है आयुर्वेद का ही अन्य ब्लाग है द लाइट आफ आयुर्वेद जिस पर अच्छी आयुर्वेदिक जानकारियाँ होती हैं आपको भी कोई जानकारी अगर आयुर्वेद की मिले तो हमें प्रदान करें जिससे आयुर्वेद का प्रकाश सम्पूर्ण जगत में फैलें
चलते चलते भाई यशवन्त जी पता नही क्यों आपका कमेन्ट बाक्स करीव आधा घण्टे के इंतजार के बाद खुला है। हम आपके फोलोअर भी बने जाते हैं आपका धन्यबाद