प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

वेब सर्च (Enter your keywords to search on web)

23 June 2014

दौलत का यह रास्ता गरीब के दर नहीं जाता




सच है कि पेट जिनके भरे होते हैं हद से ज़्यादा।
क्या होती है भूख उनको समझ नहीं आता ॥
सोते हैं सिरहाने रख कर वो गांधी के चेहरे को ।
सच का समंदर आँखों से कभी बाहर नहीं आता ॥
झांक कर तो देखें कभी ऐ सी कारों के बाहर ।
है मंज़र यह कि उन्हें कुछ भी नहीं सिखाता ॥
दिल दहलते हैं हर रोज़ अखबारों को देखकर ।
दौलत का यह रास्ता गरीब के दर नहीं जाता॥

~यशवन्त यश©

3 comments:

दिगम्बर नासवा said...

गहरी ... दिल को कटोचती है आपकी बात ...

सुशील कुमार जोशी said...

सटीक ।

Madhuresh said...

एक नए समाजवादी आंदोलन की आवश्यकता है.