+Get Now!

प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

20 March 2019

ऐसे ये होली मन जाए

फिर से लौट आए वो बचपन
फिर से वो टोली बन जाए
गिला या शिकवा हो न मन में
ऐसे ये होली मन जाए।

भाईचारे का अबीर गुलाल
सबको सतरंगी कर दे
फागुन की मद-मस्ती सबको
ढेरों खुशियों से भर दे ।

फिर से लौट आए वो मंजर
फिर से मीठी बोली बन जाए
सदभाव ही केवल रहे इस मन में
ऐसे ये होली मन जाए।

==================

होली की हार्दिक शुभकामनाएँ!

-यश ©