+Get Now!

प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

10 April 2019

यहाँ न कोई किस्सा हो........

न गिला-शिकवा हो कोई,
न अपना कोई किस्सा हो।
बीत जाए जो ये ज़िन्दगी,
तो फिर कितना अच्छा हो।
.
बहुत पल बीते बहार में,
यह पतझड़ का दौर है।
अपना न कोई बेगानों में,
मौत ही अब एक ठौर है।
.
वो कहते हैं मैं सुनता हूं,
ये बात न हो तो अच्छा हो।
बीते कल की दोहराहट का,
यहाँ न कोई किस्सा हो।
.
~यश©
09/04/2019