प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

वेब सर्च (Enter your keywords to search on web)

20 October 2019

कुछ कह न सका.....

अफसोस ये कि दिल से कुछ कह न सका,
अफसोस ये कि दिल की कुछ सुन न सका।
यूँ तो राही बनके आया था इस जहां में मगर,
कदम कमज़ोर ये ही थे कि ठीक से चल न सका।
.
-यश©
17/10/2019

No comments: