प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

वेब सर्च (Enter your keywords to search on web)

06 February 2020

सैनिक

हम सोचते हैं
सैनिक
सिर्फ सैनिक होता है
जिसका काम
सिर्फ मारना और मरना होता है
अपने देश पर
मिटना होता है
लेकिन
हम नहीं सोचते
कि सैनिक भी
इंसान होता है
हमारी-तुम्हारी तरह
उसके भीतर भी
प्राण होता है
उसका भी
अपना एक परिवार होता है
जो निर्भर करता है
उसकी सकुशलता पर
उसकी वीरता पर
उसके कर्तव्य
और धीरता पर।
सैनिक!
सबका विश्वास, आश्वासन
और गर्व होता है
क्योंकि वह
सिर्फ सैनिक नहीं
एक संकल्प होता है।

-यशवन्त माथुर ©
08/01/2020

No comments: