प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

वेब सर्च (Enter your keywords to search on web)

25 March 2020

सब अपने घर में हैं....

(चित्र साभार-गूगल/फ़ेसबुक )
ये समय का चक्र है 
कि कोई मजे में है 
दीवारों के भीतर
मखमली पर्दों 
और आरामतलबी की 
कैद में है। 

ये बात और है 
कि कुछ लोग 
सड़क के किनारों पर 
खाली पेट और 
सहमी आँखों के साथ 
ढलती दुनिया के 
संभल जाने की 
उम्मीद में हैं। 

ये जो कुछ भी है 
क्या है 
इतनी समझ तो नहीं 
असर इतना है 
कि सब अपने घर में हैं। 

-यशवन्त माथुर ©
25/03/2020

1 comment:

Anita said...

मार्मिक