प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

वेब सर्च (Enter your keywords to search on web)

01 January 2011

नया वर्ष मुबारक हो सब को

इस सदी की शुरआत में यानि वर्ष 2000 की पूर्व संध्या पर (तब मैं कक्षा 10 का छात्र था) मूल रूप से लिखी गयी इस कविता को 10 वर्ष के अंतराल के बाद आप सभी सुधि और विद्वत पाठकों के समक्ष वर्ष 2011 की शुभकामनाओं के साथ  इस ब्लॉग पर सामयिक  परिवर्तनों के साथ प्रस्तुत कर रहा हूँ-

नया वर्ष मुबारक हो सब को
लाये ये खुशियाँ ही खुशियाँ
हर दिन एक नया दिन हो
हर घड़ी हर पल नया हो
बहें प्रेम पूरित नदियाँ

नया वर्ष मुबारक हो सब को.

नया वर्ष मुबारक हो सबको
हिन्दू- मुस्लिम- सिख- ईसाई
शंकाराचार्य, मौलवी साहब
गुरु और फादर को
सीता- राम, राधा- कृष्ण
नानक, अल्लाह और जीसस को

नया वर्ष मुबारक हो सबको.

नया वर्ष मुबारक हो सबको
सीमा पर डटे जवानों को
जो मातृ भू की रक्षा हित
बली चढ़ा देते प्राणों को
जिनकी कठोर हुंकार से
दुश्मन कांपने लगता
जिनके मुक्कों की टक्कर से
पर्वत भी हिलने लगता
माँ भारती के दुलारे बेटों को

नया वर्ष मुबारक हो सबको 

नया वर्ष मुबारक हो सबको 
मंत्रियों और संतरियों को 
नेताओं अभिनेताओं को 
अटल, मुलायम, सोनिया गाँधी 
गोविंदा, बच्चन, बब्बर को 
सी डब्लू जी और टू जी को 
सोनी को 'के बी सी' को 

नया वर्ष मुबारक हो सबको  

नया वर्ष मुबारक हो सबको
दुनिया के हर रहने वाले को
मानव को मानवता को
अनेकता में एकता को
हर भाषा हर बोली को
बच्चों की हर टोली को

नया वर्ष मुबारक हो सबको.




[आप सभी को नव वर्ष 2011 की ढेर सारी शुभ कामनाएं.]