प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

वेब सर्च (Enter your keywords to search on web)

26 August 2020

फ्यूचर ग्रुप-- यह तो होना ही था

फ्यूचर ग्रुप की बदहाली की खबरें काफी दिन से सुनने में आ रही हैं और आज एक और खबर सुनने में आ रही है कि आई पी एल 2020 की एसोसिएट -स्पॉन्सरशिप से भी आखिरी समय में यह ग्रुप पीछे हट गया है। 

अपुष्ट सूत्रों से सुनने में यह भी आ रहा है कि इसे 'जिओ मार्ट' द्वारा खरीदने की तैयारी है। सच यह है कि फ्यूचर ग्रुप, खासकर बिग बाजार पर रिलायंस की नजर आज से नहीं  एक लंबे समय से है/ थी । 

बिग बाजार छोड़े हुए मुझे ही 10 वर्ष से ज्यादा हो गया है और जिस दौरान बिग बाजार स्टोर्स का एक्सपेन्शन हो रहा था यानी एक ही शहर में जगह-जगह स्टोर्स खोले जा रहे थे, उस दौरान भी रिलायंस द्वारा इसे खरीदने के प्रयासों की बातें सामने आ रही थीं। 

(चित्र में आगरा बिग बाजार के तत्कालीन स्टोर मैनेजर श्री गौतम जोशी जी के साथ मैं और अन्य सहकर्मीगण) 

उस समय भी हम कुछ कर्मचारियों का एक वर्ग आंतरिक तौर पर इस स्टोर एक्सपेन्शन से चिंतित था क्योंकि इतने बड़े स्टोर्स एक शहर में 1-2 हों तो ही प्रॉफ़िट जेनरेशन के लिए अच्छा होगा। लेकिन पता नहीं किस दिमाग से एक ही शहर में 4-4 बिग बाजार (जैसे लखनऊ में ही 4 से ज्यादा स्टोर्स हैं) खोल दिये गए और कर्मचारियों से उम्मीद की जाने लगी कि वे सेल्स टारगेट पूरे करके दें। 

2006 में आगरा के पैसिफिक मॉल वाला स्टोर, जहाँ से मैंने अपने करियर की शुरुआत की थी, बहुत पहले ही बंद हो चुका है। क्योंकि हरिपर्वत स्थित रतन मॉल  वाले स्टोर ने एक बड़ा फुटफ़ॉल कैप्चर कर लिया और लोग फतेहाबाद रोड जाने से हिचकने लगे। 

(15 सितंबर 2006 को आगरा में पहला बिगबाजार खुला जिसका समाचार 16 सितंबर के 'हिंदुस्तान' में प्रकाशित हुआ था) 

बहरहाल अब जो हो रहा है, कुछ लोगों को इसका अंदाज पहले से ही था इसलिए फ्यूचर ग्रुप की इस हालत पर आश्चर्य नहीं होना चाहिए। यह और बात है कि जो लोग इससे जुड़े हैं या जुड़े रहे हैं उनकी यादों में यह हमेशा जीवित रहेगा। 


-यशवन्त माथुर ©
26082020

23 August 2020

आज की शाम (2 शब्द 3 चित्र)


हम सिर्फ सोचते रह जाते हैं
ख्यालों के बादल
आ कर चले जाते हैं

Shot by Samsung M30s-Copyright-Yashwant Mathur©
 मैं चाहता हूँ
बरस जाएं लेकिन
थोड़ा गरज कर ही
मंजिल पा जाते हैं

Shot by Samsung M30s-Copyright-Yashwant Mathur©
 ये आज की शाम है
मगर किस्सा हर रोज का है
कुछ शब्द लिखते हैं 
कुछ मिटा दिये जाते हैं। 

Shot by Samsung M30s-Copyright-Yashwant Mathur©

-यशवन्त माथुर ©
23082020 



22 August 2020

छोटी बात

जो सक्षम हो कर भी
असमर्थ हों
उन तथाकथित
अपनों से दूर होने की
गर आ जाए सामर्थ्य
तो धन्य हो कर
कूच कर जाऊँ
एक नयी दुनिया की ओर।

-यशवन्त माथुर ©
22082020

21 August 2020

कुछ तो होना ही है

विध्वंस या निर्माण
जन्म या मरण
प्रश्न या उत्तर
उत्तर या प्रश्न
जो आज यक्ष है
कल उसे
प्रत्यक्ष होना ही है
समय का परिवर्तन
सुनिश्चित ही है
पाना है कुछ
और कुछ तो
खोना ही है।

-यशवन्त माथुर
20082020